दिल्ली में एक वर्ग किलोमीटर में रहते हैं 13,000 लोग, अरूणाचल प्रदेश में सिर्फ 18

by Rahul Gautam 3 months ago Views 1878
13,000 people live in one square kilometer in Delh
वास्थ्य मंत्रालय की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार 2019 में देश की आबादी 133 करोड़ के पार पहुंच चुकी है। ज़ाहिर है इससे देश के संसाधनों पर भारी असर पड रहा है। रिपोर्ट ये भी बताती है की देश में पापुलेशन डेंसिटी यानि जनसँख्या घनत्व पिछले कुछ सालो में ज़बरदस्त तरीके से बढ़ा है। 2011 में जहा 368 लोग एक वर्ग किलोमीटर में रहते थे, जोकि 2019 में बढकर 411 के आंकड़े तक पहुंच गया है। कुछ राज्यों में तो एक वर्ग किलोमीटर में 13 हज़ार से ज्यादा लोग रहने को मजबूर है।


देश की बढ़ती जनसँख्या को लेकर काफी समय से चिंता जताई जा रही है। हालिया प्रकाशित स्वास्थ्य मंत्रालय की ताज़ा रिपोर्ट बताती है की देश की आबादी जुलाई 2019 में 1 अरब 33 करोड़ के पार जा चुकी है।  ज़ाहिर है इतने सारे लोगो को रहने के लिए जगह की आवश्यकता है। रिपोर्ट के मुताबिक आबादी के साथ साथ जनसँख्या घनत्व पिछले 10 सालो में ज़बरदस्त तरीके से बढ़ा है और जुलाई 2019 में देश में औसतन एक वर्ग किलोमीटर में 411 लोग रह रहे है।  2011 में यही आंकड़ा 386 था।  

Also Read: शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारी धरनास्थल खोलने को तैयार, सुरक्षा की मांगी गारंटी

सबसे ख़राब स्तिथि दिल्ली में है जहा एक वर्ग किलोमीटर में 13 हज़ार 446 लोग रहते है। दिल्ली के बाद नंबर आता है चंडीगढ़ का जहा एक वर्ग किलोमीटर में 10386 रहते है। पुडुचेर्री में जनसँख्या घनत्व 5153, बिहार में 1276, पश्चिम बंगाल में 1094, उत्तर प्रदेश में 938 और केरल में 905 है। सबसे कम जनसँख्या घनत्व देश का अरुणाचल प्रदेश में है जहा एक वर्ग किलोमीटर में केवल 18 लोग रहते है। 

वीडियो देखिये

स्टैटिस्क्या वेबसाइट की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में जनसँख्या घनत्व के मामले में भारत 27वे स्थान पर आता है। लेकिन चीन के अलावा बाकी सभी मुल्क बेहद छोटे मुल्क है। बता दे, इसी वेबसाइट के मुताबिक चीन का जनसँख्या घनत्व 671 है।  

ज़ाहिर है चीन के मुकाबले भारत कम विक्सित देश और यहाँ गरीबी ज्यादा है। ऐसे में एक साथ इतना ज्यादा घनत्व से देश के संसाधनों पर भार ज्यादा पडता है।  

Latest Videos

Facebook Feed