GoPlus - एक नज़र आज की बड़ी ख़बरों पर

by GoNews Desk 3 weeks ago Views 1868
Top News Of The Day
GoPlus: एक नज़र आज की बड़ी ख़बरों पर

Also Read: सिंधिया के जुड़ते ही एमपी बीजेपी में हलचल बढ़ी, यशोधरा ने सरकार बनाने का संकेत दिया

कांग्रेस से इस्तीफ़ा देने के बाद , ज्योतिरादित्य सिंधिया आज  दोपहर , बीजेपी में शामिल हो गए. बीजेपी में शामिल होते ही उन्हें राज्य सभा का टिकट भी मिल गया है , पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने , पार्टी मुख्यालय में , उन्हें बीजेपी की सदस्यता दिलवाई. इस दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि 18 महीने पहले बनी सरकार अपने वादों को पूरा करने में नाकाम रही. ज्योतिरादतिया सिंधिया ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा की कांग्रेस अब वो पार्टी नहीं रही जो पहले थी। कांग्रेस को कोसने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पीएम मोदी की जमकर तारीफ़ की , और कहा कि देश उनके हाथों में सुरक्षित है. हमारे सहयोगी अजय झा की रिपोर्ट 


योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी आधिकारिक तौर पर जुड़ते ही , मध्यप्रदेश बीजेपी में हलचल बढ़ गई है. पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने फौरन प्रेस कांफ्रेंस करके बता दिया,  कि वो और ज्योतिरादित्य सिंधिया एक हैं. शिवराज सिंह चौहान अपनी प्रेस कांफ्रेंस में, ज्योतिरादित्य सिंधिया की बुआ , और बीजेपी नेता यशोधरा सिंधिया को साथ लेकर पहुंचे थे. 


ज्योतिरादित्य सिंधिया 2001 में , अपने पिता माधवराव सिंधिया के निधन के बाद कांग्रेस से जुड़े , और उनका राजनीतिक क़द लगातार बढ़ता रहा. वो कांग्रेस के टिकट पर चार बार सांसद रहे , लेकिन 2019 का आमचुनाव , अपने ही पूर्व निजी सचिव केपीएस यादव से हार गए. तभी से ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी में लगातार हाशिए पर चल रहे थे. हालांकि कांग्रेस नेता शोभा ओझा ने कहा , कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस पार्टी में वो सबकुछ मिला , जहां तक पहुंचना करोड़ों कार्यकर्ताओं का सपना होता है. 


कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी से अलग होते ही लिखा,  की  उनके और पार्टी के रास्ते लगभग एक साल पहले ही , अलग होने लग गए थे। लेकिन सिंधिया अकेले नहीं हैं। दरअसल, एक लम्बी लिस्ट है राहुल गांधी के करीबियों की, जो अब या तो पार्टी में , किनारे लगा दिए गए हैं , या पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। आखिर कहा खड़ी है टीम राहुल आज कांग्रेस में, देखे ये ख़ास रिपोर्ट :-


मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार , बाग़ी विधायकों को अपने पाले में करने के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर लगा रही है. मगर सिंधिया ख़ेमे से कितने विधायक कमलनाथ के पाले में लौटेंगे, यह वक्त बताएगा. इस बीच अटकलें तेज़ हो गई हैं कि बीजेपी के निशाने पर अगला राज्य महाराष्ट्र है , जहां ऑपरेशन लोटस चलाया जाएगा. हालांकि शिवसेना नेता संजय राऊत ने कहा , कि वो ख़ुद सर्जन हैं , और बीजेपी का ऑपरेशन लोटस महाराष्ट्र में फेल हो चुका है.


 दुनियाभर में जहां कोरोना वायरस से 4,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैं, वहीं भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर अब 61 हो गई है। कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारत ने फ्रांस, जर्मनी और स्पेन के नागरिकों का वीजा अस्थायी रूप से रद्द कर दिया है। 


NIT मिजोरम के छात्र पिछले एक महीने से , खाने की दिक्कतों से जूझ रहे हैं, जिसको लेकर अब छात्रों ने अनिश्चितकालिन हड़ताल शुरु कर दी है। वहीं कॉलेज प्रशासन इस पर चुप्पी साधे हुए है।


भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की वनडे सीरीज का पहला मैच  कल धर्मशाला के हिमाचल प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाएगा। दोनों टीमें पहली बार इस स्टेडियम में आमने-सामने होंगी।


केरल में प्रस्तावित सेमी हाई-स्पीड  रेल , यानि सिल्वर लाइन प्रोजेक्ट को एक मेगा प्रोजेक्ट के रूप में देखा जा रहा है , जिससे  तिरुवनंतपुरम से कासरगोड की दूरी , 12  घंटे से घटकर सिर्फ 4 घंटे में पूरी कर ली जाएगी. इस प्रोजेक्ट से राज्य की प्रगति भी होगी , लेकिन इस प्रोजेक्ट से जुड़े कंसलटेंट आलोक वर्मा के मुताबिक, प्लान में किये गए बदलावों से , इस पूरे प्रोजेक्ट पर 40,000 करोड़ रुपये ज़्यादा खर्च हो रहे हैं।  उनके मुताबिक इस प्रोजेक्ट में काफी बदलाव की ज़रूरत है. हमारे सहयोगी सिद्धार्थ पांडे ने आलोक वर्मा से बात की।


2016 में केन्या में सफ़ेद रंग के जिराफ की तस्वीरों ने , दुनियाभर के पशुप्रेमियों को चकित कर दिया था , लेकिन इस दुर्लभ जिराफ और उसके बछड़े की , शिकारियों ने हत्या कर दी. दो जिराफ की मौत से केन्या में शोक का माहौल है. कहा जा रहा है कि दुनिया में सफेद रंग का सिर्फ एक जिराफ बचा है. 


दुनिया में आप जो परिवर्तन देखना चाहते हैं, उसकी शुरुवात आप ही कर सकते हैं, इस बात की जीती जागती मिसाल हैं , हिमाचल प्रदेश की कल्पना ठाकुर। पर्यावरण को बचाने के लिए प्लास्टिक के कचरे को , रीसायकल कर , कल्पना पिछले 24 सालो से , पर्यावरण संगरक्षण के लिए जागरूकता फैला रही हैं।