एक नज़र आज की बड़ी खबरों पर

by GoNews Desk 1 month ago Views 1553
goplus with rupali tewari
ads
Sept.27 - एक नज़र इस वक्त की बड़ी खबरों पर - 

  • गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में अगस्त 2017 में अक्सीज़न की कमी से 60 बच्चों की मौत हो गई थी. तब अपनी कमियां छिपाने के लिए यूपी की योगी सरकार ने मेडिकल कॉलेज में तैनात डॉक्टर कफ़ील को बलि का बकरा बनाया था  लेकिन दो साल तक चली जांच के बाद,  उन्हें बेगुनाह पाया गया है. 
  • मॉनसून खत्म होने की कगार पर है लेकिन लगातार हो रही बारिश से देश के अलग-अलग हिस्सों में मौते हो रही है. पिछले चार दिनों में यूपी पुणे और हैदराबाद में 32 लोगों की मौत हो चुकी है.
  • महाराष्ट्र स्टेट को-ऑपरेटिव बैंक घोटाले में ईडी ने एनसीपी चीफ शरद पवार पर शिकंजा कसने की कोशिश की लेकिन अब बैकफुट पर है. ईडी का नोटिस मिलने के बाद एनसीपी चीफ शरद पवार ने उसके दफ़्तर जाने का ऐलान किया जिसके बाद पवार समर्थक सड़कों पर आ गए और क़ानून व्यवस्था बिगड़ने लगी. इसके बाद शरद पवार घर से भी निकले लेकिन अफ़सरों के मनाने के बाद वापस लौट गए. इस पूरे घटनाक्रम पर कांग्रेस नेता तारिक़ अनवर का क्या कहना है, उनसे हमारे सहयोगी अजय झा ने बात की.
  • केंद्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल ने हरियाणा विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान किया है.अकाली दल हरियाणा में उसके एक मात्र विधायक के बीजेपी में शामिल होने से नाराज़ है. 
  • अर्थव्यस्था में सुस्ती की खबरों के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्राइवेट बैंकों के अधिकारियों से मुलाकात की. बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री ने कहा की  कहीं भी लिक्विडिटी की समस्या देखने को नहीं मिल रही है और आने वाले दिनों में अर्थव्यस्था में सुधार देखने को मिलेगा.
  • सुस्त रफ़्तार में चल रही अर्थव्यवस्था की रफ़्तार बढ़ाने के लिए वित्त मंत्री कई बार बड़े-बड़े ऐलान कर चुकी हैं लेकिन ये मानने को तैयार नहीं हैं कि ज़मीनी हालात काफी बिगड़ चुके हैं. दिल्लीवालों का साफ कहना है कि उनकी आमदनी तो नहीं बढ़ी लेकिन डीज़ल-पेट्रो और सब्ज़ियों के दामों में बढ़ोतरी से उनका बजट चरमरा गया है. देखिये हमारे सहयोगी अजय झा की ग्राउंड रिपोर्ट.
  • अर्थव्यवस्था की रफ़्तार में सुस्ती की एक बड़ी वजह ग्रामीण इलाक़ों में रह रहे लोगों की ख़रीदारी की क्षमता में आई गिरावट है. सरकार ने फ़सलों का मिनिमम सपोर्ट प्राइस तो बढ़ा दिया है. मगर हालात ये है किसानों से उनकी फ़सल का सिर्फ़ एक तिहाई हिस्सा ही ख़रीदा जाता है.
  • देश की बड़ी बड़ी कंपनियां सुस्त रफ़्तार में चल रही अर्थव्यवस्था की मार बेशक झेल रही हैं लेकिन ग्रामीण भारत की महिलाएं अपनी तरक़्क़ी की कहानी ख़ुद लिख रही हैं. ऐसी ही कुछ कहानियों पर देखिए गो न्यूज़ की ख़ास पेशकश.
  • पेट्रोल और डीज़ल की कीमतों में बढ़ोत्तरी का सिलसिला जारी है. आज  एक बार फिर तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की.तेल कंपनियों ने दिल्ली में पेट्रोल केदाम में 15 पैसे और डीजल के दाम में 10 पैसे की बढ़ोतरी की. इस बढ़ोतरी के बाद अब मुंबई में एक लीटर पेट्रोल 80 रुपए में मिल रहा है.
  • सूरत के कपड़ा बाज़ार में ट्रांसजेंडर समुदाय की एंट्री बंद कर दी गई है. व्यापारियों ने फैसला ट्रांसजेंडर्स पर हिंसा का आरोप लगाते लिया है.