Trending

विकास के नए स्रोतों का पता लगा पाने में फेल रहा भारत: रघुराम राजन

by GoNews Desk 1 month ago Views 1169
India failed to detect new sources of development:
ads
आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने भारतीय अर्थव्यवस्था के लिये गहरी चिंता जताई है। उन्होंने देश की राजकोषीय घाटे पर चर्चा करते हुए कहा कि राजकोषीय घाटा देश की अर्थव्यवस्था को बेहद चिंताजनक अवस्था की ओर धकेल रहा है। रघुराम राजन ने ब्राउन युनिवर्सिटी में एक लेक्चर के दौरान ये बात कही।

उन्होंने चेताते हुए कहा कि, इस गंभीर संकट का कारण अर्थव्यवस्था को लेकर दृष्टिकोण में अनिश्चितता है। राजन ने कहा कि, पिछले कई साल तक अच्छा प्रदर्शन करने के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था में उल्लेखनीय स्तर पर सुस्ती आई है।

Also Read: मुंबई: 2020 तक पूरी तरह बंद हो जाएगी पद्मिनी प्रीमियर टैक्सी

उन्होंने कहा कि, भारतीय अर्थव्यवस्था सुस्ती के दौर से गुजर रही है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में विकास दर छह साल के निचले स्तर 5 फिसदी पर पहुंच गई है और दूसरी तिमाही में इसके 5.3 फीसदी के आसपास रहने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि, अर्थव्यवस्था की इतनी बुरी हालत होने से पहले उनमें आई दिक्कतों का समाधान नहीं किया गया। उन्होंने बताया कि, असल दिक्कत ये है कि भारत विकास के नए स्रोतों का पता लगा पाने में फेल रहा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजन ने मोदी सरकार के दो महत्वपूर्ण दावों को गलत करार दिया है। सरकार की नोटबंदी और जीएसटी को गलत कदम बताते हुए कहा कि, नोटबंदी और जीएसटी जैसे कदम सरकार नहीं उठाती तो अर्थव्यवस्था की इतनी बुरी हालत नहीं होती।

राजन ने कहा कि भारत में वित्तीय संकट है जिसको एक लक्षण के रूप में देखा जाए न कि मूल कारण के रूप में। उन्होंने अर्थव्यवस्था की विकास दर में आई गिरावट के लिये निवेश, खपत और निर्यात में आई कमी और एनबीएफसी क्षेत्र को जिम्मेदार ठहराया।