मैच फिक्सिंग केस: सट्टेबाज संजीव चावला को भारत लाया गया

by GoNews Desk 1 week ago Views 598
Match fixing case: Bookie Sanjeev Chawla brought t
ads
20 साल पहले क्रिकेट की दुनिया में फिक्सिंग से भूचाल लाने वाले मैच फिक्सर संजीव चावला को ब्रिटेन से प्रत्यर्पित कर भारत लाया गया है। दिल्ली पुलिस के अधिकारी गुरुवार सुबह संजीव चावला को ब्रिटेन से दिल्ली लेकर आए। 

साल 2000 के मैच फिक्सिंग मामले में प्रमुख आरोपी बुकी संजीव चावला को ब्रिटेन से भारत लाया गया है। दिल्ली पुलिस के अधिकारी गुरुवार सुबह संजीव चावला को ब्रिटेन से दिल्ली लेकर आए। 50 साल के ब्रिटिश नागरिक संजीव चावला साल 2000 में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व क्रिकेट कप्तान हैंसी क्रोनिए से जुड़े मैच फिक्सिंग कांड का एक प्रमुख आरोपी है। संजीव चावला पर आरोप है उन्होंने फरवरी-मार्च 2000 में दक्षिण अफ्रीका के भारत दौरे के दौरान दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम के कप्तान हैंसी क्रोनिए के साथ मैच फिक्स करने में अहम भूमिका निभाई थी। 

Also Read: श्रीनगर में निजी कोचिंग क्लासेस बच्चों के लिए बनी उम्मीद की किरण

सट्टेबाज संजीव चावला का ये केस अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे बड़े मैच फिक्सिंग घोटालों में से एक है। 2000 के स्पॉट फिक्सिंग मामले में दक्षिण अफ्रीकी कप्तान हैंसी क्रोनिए और कई भारतीय पूर्व क्रिकेटरों के नाम शामिल थे। 2000 में संजीव चावला का भारतीय पासपोर्ट रद्द कर दिया गया था। 2005 में उन्हें ब्रिटेन का पासपोर्ट मिला और तब से वो ब्रिटिश नागरिक हैं। दक्षिण अफ्रीकी दौरे के समय क्रोनिए को चावला ने पैसे दिए थे और वो क्रोनिए के साथ सीधे संपर्क में था। बाद में जून 2002 में एक विमान दुर्घटना में हैंसी क्रोनिए की मौत हो गई थी।

चावला और क्रोनिए को क्राइम ब्रांच ने 70 पेज की चार्जशीट में भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 16 फरवरी-2000 से 20 मार्च-2000 के बीच खेले गए मैच फिक्सिंग के आरोप में लिस्ट किया था। जैसे ही दिल्ली पुलिस ने मार्च 2000 के पहले हफ्ते में एफआईआर दर्ज की, चावला ब्रिटेन चले गए। इसके बाद क्रोनिए को दक्षिण अफ़्रीका की एक कमिशन के आगे सुनवाई का भी सामना करना पड़ा।

वीडियो देखिये

1990 के दशक के अंत में डी-कंपनी के लिए एक प्रमुख बुकी का काम करने वाले लंदन के बिज़नेसमैन संजीव चावला ब्रिटेन से प्रत्यर्पित किए जाने वाले दूसरे व्यक्ति हैं। इससे पहले 2002 के गुजरात दंगों के मामलों में वांटेड समीरभाई विनुभाई पटेल को यूके सरकार ने अक्टूबर 2016 में भारत को प्रत्यर्पित किया था।