चने की खरीद नहीं होने पर राजस्थान के किसानों ने दिल्ली कूच किया

by GoNews Desk 1 month ago Views 6417
Rajasthan farmers traveled to Delhi if gram was no
राजस्थान के किसानों ने चने की खरीद को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. विरोध-प्रदर्शन के लिए दिल्ली कूच कर चुके किसानों की मांग है कि सरकार ने चने की खरीदारी अपने लक्ष्य से बेहद कम की है. अगर सरकार चने की खरीदारी न्यूनतम समर्थन मूल्य के आधार पर नहीं करती है तो किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट का कहना है, ‘केन्द्र सरकार ने 26.75 लाख टन चने की खरीदारी का लक्ष्य रखा था लेकिन अबतक सिर्फ छ: लाख टन चने की खरीदारी की गई है. ये सरकारी नारे ‘आत्मनिर्भर’ भारत के ख़िलाफ है।’ किसान महापंचायत का कहना है कि सरकार की इस खरीदारी के बाद 20.7 लाख टन चना किसानों के पास पड़ा है. इनमें से राज्य की मंडियों में दो लाख टन चना बमुश्किल बेचा गया है लेकिन बचा हुआ 18.7 लाख टन चना बर्बादी की कगार पर हैं।

Also Read: हवा से फैलता है कोरोना का संक्रमण, वैज्ञानिकों के दावे को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने माना

अगर सरकार इनकी खरीदारी न्यूनतम समर्थन मूल्य के आधार पर नहीं करती है तो किसानों को 2070 करोड़ रूपये तक का नुकसान हो सकता है। उनका कहना है कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो किसानों को प्रति क्विंटल 1000 से 1200 रूपये तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है।

साथ ही किसान, सरकार द्वारा कुल उत्पादन की खरीद पर लगाए गए प्रतिबंध को ख़त्म करने की मांग कर रहे हैं। किसानों की लंबे समय से मांग रही है कि कुल उत्पादन का 25 फीसदी की खरीदारी के बजाए 50 फीसदी की जाए ताकि उत्पादन पर पड़े बोझ को कम किया जा सके।

बता दें कि हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम संबोधन में देश के 80 करोड़ ग़रीब परिवारों के लिए गरीब कल्याण अन्न योजना को नवंबर तक जारी रखने की बात कही थी। इस योजना के तहत प्रधानमंत्री ने हर परिवार को राशन कार्ड पर एक किलो चना मुफ्त देने का भी ऐलान किया था।

अब देखना होगा की सरकार राजस्थान के इन किसानों से चने की खरीदारी पर कबतक राजी होती है।

Latest Videos

Facebook Feed