अदनान सामी को “पद्म श्री” लेकिन विरोध क्यों?

by GoNews Desk 4 weeks ago Views 1362
ads
सिंगर अदनान सामी को भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से नवाज़ा गया है. अदनान सामी के साथ 118 और लोगों को नवाज़ा गया है. जिसमें अभिनेत्री कंगना रानौत, डायरेक्टर और प्रेड्यूसर एकता कपूर और करण जौहर शामिल हैं. बताया गया है कि फिल्म जगत में इनके योगदान के लिए इन्हें पुरस्कृत किया गया है. 
 
उधर राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण पार्टी ने सिंगर अदनान सामी को पद्म श्री दिये जाने का विरोध किया है. एमएनएस ने कहा, "अदनान सामी भारत के मूल नागरिक नहीं हैं". 

दरअसल, पाकिस्तान में जन्मे सिंगर अदनान सामी ने भारत की नागरिकता के लिए साल 2015 में आवेदन किया था. जिसके बाद सरकारी समीक्षा के बाद अदनान सामी को भारत की नागरिकता प्रदान की गई थी.

Also Read: विज्ञापनों की दुनिया में प्रिंट मीडिया की चमक फीकी, डिजिटल प्लेटफॉर्म्स और स्मार्ट फोंस नए हीरो

अदनान सामी पहली बार साल 2001 में वीज़िटर वीजा पर भारत आए थे. समय-समय पर पाकिस्तान सरकार उनके वीज़ा को रिन्यू कर दे रही थी. लेकिन साल 2015 में पाकिस्तान सरकार ने अदनान सामी के वीज़ा को रीन्यू नहीं किया. तभी भारत सरकार ने अदनान सामी द्वारा नागरिकता के लिए किये गए आवेदन को स्वीकृति दे दी. तब से वो भारत के नागरिक हैं. 

भारतीय नागरिकता मिलने पर अदनान सामी को काफी ट्रोल किया गया था. एक ट्रोलर ने सामी से पूछा कि उनके पिता का जन्म कहां और मृत्यु कहां हुई. जिसके जवाब में अदनान सामी ने कहा था, "मेरे पिता का जन्म साल 1942 में भारत में हुआ और उनकी मृत्यु साल 2009 में भारत में हुई! आगे!"